बिहार

24 घंटे में 5 की जान निगल गया कोरोना: भागलपुर में वकील की मौत; बेगूसराय में 2 और PMCH में 1 संक्रमित की मौत

wcnews.xyz
Spread the love

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Death Toll Rises Due To Corona Virous In Bihar; Bihar Coronavirus Death News Update

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
भागलपुर के मायागंज अस्पताल का मुर्दाघर, कोविड मरीज की लाश के पास बैठे हैं परिजन। - Dainik Bhaskar

भागलपुर के मायागंज अस्पताल का मुर्दाघर, कोविड मरीज की लाश के पास बैठे हैं परिजन।

  • भागलपुर के मायागंज अस्पताल में दिख रही है लापरवाही

कोरोना वायरस दिन प्रतिदिन खतरनाक होता जा रहा है। संक्रमण के साथ ही मौत का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है। बुधवार शाम 4 बजे तक 5 संक्रमितों की मौत हो गई है। इसमें भागलपुर के एक अधिवक्ता भी शामिल हैं। भागलपुर और बेगूसराय में दो-दो लोगों की जान गई है, जबकि पटना मेडिकल कॉलेज में एक मौत हुई है। भागलपुर में मौत के बाद प्रशासनिक लापरवाही का भी मामला आया है। शव को खुले में घंटों छोड़ दिया गया, जहां जानवरों के साथ परिजनों का भी आना जाना हो रहा था। ऐसे में संक्रमण का खतरा बना हुआ है।

कोरोना से हुई मौत के बाद लाश को बाहर निकालते स्वास्थ्यकर्मी।

कोरोना से हुई मौत के बाद लाश को बाहर निकालते स्वास्थ्यकर्मी।

भागलपुर में 50 साल के वकील की अचानक बिगड़ी हालत

भागलपुर के खंजरपुर निवासी 50 साल के अधिवक्ता अजय कुमार शुक्ला कोरोना संक्रमित हो गए थे। मंगलवार को अचानक उनकी हालत बिगड़ गई। घर वालों ने मंगलवार को ही आनन-फानन में उन्हें मायागंज अस्पताल में भर्ती करा दिया। बुधवार सुबह इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। वहीं, मायागंज अस्पताल में श्याम सुंदर मांझी की भी मौत हुई है। वह कोरोना संक्रमित होने के बाद एक दिन पूर्व ही भर्ती हुए थे। बुधवार को सांस लेने में परेशानी हुई। इसके बाद उनकी मौत हो गई। मंगलवार को भी मायागंज अस्पताल में कोरोना से दो संक्रमितों की मौत हुई है।

मायागंज अस्पताल में जानलेवा लापरवाही

मायागंज अस्पताल में जानलेवा लापरवाही की जा रही है। यहां कोरोना से मरने वालों का शव परिजनों को ही सौंप दिया जा रहा है, जिससे कोरोना विस्फोट का बड़ा खतरा है। बुधवार को एक मृतक के परिजनों को शव के पास तक भेज दिया गया। इतना ही नहीं दोनों शव को बाहर ही काफी देर तक रखा गया था, जहां जानवरों के साथ परिजनों का आना जाना था। ऐसे में संक्रमण फैलने के बड़े खतरे से इंकार नहीं किया जा सकता है। मायागंज अस्पताल के प्रभारी से जब इस लापरवाही पर दैनिक भास्कर ने सवाल किया तो वह भी गोलमोल जवाब देने लगे। दैनिक भास्कर के सवाल पर मायागंज अस्पताल के प्रभारी अशोक कुमार भगत ने कहा कि शव अगर परिजन ले जाना चाहते हैं तो उन्हें दे दिया जाता है। प्रभारी के इस बयान के इतर नियम है कि कोरोना से मरने वालों का अंतिम संस्कार सुरक्षा घेरे में किया जाए। मायागंज अस्पताल की मनमानी से लाश वाले एंबुलेंस में ही मृतक के परिजनों को भी घाट तक ले जाया गया है।

पटना मेडिकल कॉलेज में एक संक्रमित की मौत

पटना मेडिकल कॉलेज में बुधवार को इलाज के दौरान एक मौत हो गई है। पटना मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ विद्यापति चौधरी ने इसकी पुष्टि की है। उनका कहना है कि संक्रमित के बारे में पूरी जानकारी इकट्‌ठा कराई जा रही है कि वह कब संक्रमित हुआ और उसकी कांटेक्ट हिस्ट्री क्या थी। मंगलवार को भी पटना मेडिकल कॉलेज में दो संक्रमितों की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। प्रिंसिपल का कहना है कि हर दिन मौत का ग्राफ बढ़ रहा है। ऐसे में बचाव को लेकर लोगों को अलर्ट रहना होगा।

बेगूसराय में कोरोना से दो संक्रमितों की मौत

बेगूसराय में कोरोना से दो लोगों की मौत हो गई है। DM अरविंद कुमार ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि प्रशासन दोनों संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों की टेस्टिंग करा रहा है। मरने वालों में मुफस्सिल थाना क्षेत्र के सूजा गांव निवासी योगेश ठाकुर (61) और नगर थाना क्षेत्र के न्यू चाणक्य नगर निवासी शिव शंकर राय (60) शामिल हैं। दो मौत के बाद अब जिले में कोरोना से मरने वालों की संख्या 39 हो गई है।

कोलकाता से बीमार होकर आया था और बेगूसराय में हुई मौत

DM अरविंद कुमार का कहना है कि मुफस्सिल थाना क्षेत्र के सूजा में संक्रमण से एक व्यक्ति की मौत हुई है। वह हाल ही में कोलकाता से बीमार होकर आया था। तबीयत बिगड़ने पर उसकी कोरोना जांच कराई गई थी। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद वह होम क्वारंटीन में था। मंगलवार देर रात उसकी मौत हो गई। वहीं, चाणक्य नगर निवासी शिवशंकर राय की बुधवार सुबह 7 बजे कोरोना संक्रमण से मौत हो गई।

बेगूसराय में 91 एक्टिव मामले

बेगूसराय जिला प्रशासन के आंकड़ों के मुताबिक, बुधवार दोपहर तक जिले में 91 एक्टिव मामले हैं। 1 मार्च से अब 157 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। इसमें 64 संक्रमित ठीक हो चुके हैं। सदर अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर हर तरह से अस्पताल अलर्ट मोड पर है। कोरोना के मरीजों को लेकर ऑक्सीजन और वेंटिलेटर को लेकर भी पूरी तरह से तैयारी है। संक्रमण से बचाव और अस्पतालों में इसका असर न हो इसके लिए पूरी सावधानी बरती जा रही है।

कोरोना से मौत के बाद हड़कंप, जांच के लिए खुद निकले DM और SP

बेगूसराय में कोविड गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन करवाने के लिए DM और SP खुद जांच के लिए सड़क पर उतर गए हैं। बुधवार को ट्रैफिक चौक से लेकर कचहरी चौक तक सभी दुकानों एवं मॉल में जाकर प्रोटोकॉल अधिकारियों ने चेक किया। इस दौरान उन्होंने कोरोना गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करने का निर्देश दिया है। वाहन चालकों से जुर्माना वसूला गया। DM ने सभी वाहन चालकों से अनिवार्य रूप से मास्क लगाने के साथ कोरोना गाइडलाइन का पालन करने को कहा है।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply