झारखंड

23 बेटियां परिणय सूत्र में बंधी: सम्मेलन में 21 जोड़ों की शादी होनी थी, लेकिन 23 जोड़े पहुंच गए

wcnews.xyz
Spread the love

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांची4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
मारवाड़ी भवन में वर-वधू को आशीर्वाद देते स्वामी सदानंद महाराज। - Dainik Bhaskar

मारवाड़ी भवन में वर-वधू को आशीर्वाद देते स्वामी सदानंद महाराज।

मारवाड़ी भवन में जैसे ही मंत्रोच्चार के बीच 23 युवकों ने साथ कन्याओं को मंगलसूत्र पहनाए और मांग भरी स्वामी सदानंद महाराज ने उनके लंबे सुखद वैवाहिक जीवन की मंगलकामना करते हुए आशीर्वाद दिए। रविवार को एमआरएस श्री कृष्ण प्रणामी सेवा धाम ट्रस्ट रांची और स्वामी सदानंद प्रणामी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा सामूहिक आदर्श विवाह का आयोजन किया गया। मारवाड़ी भवन में बने विशाल पंडाल में विवाह के सभी संस्कार आचार्य पंडित शंकरलाल शास्त्री, गौरव शास्त्री और उनके सहयोगियों द्वारा संपन्न कराए गए। इससे पहले 23 दूल्हों की सामूहिक बारात निकाली गई। उसके बाद जयमाल की रस्में अदा की गईं। हालांकि, 21 जोड़ों की शादी होनी थी, लेकिन 23 जोड़े पहुंच गए।

आयोजकों द्वारा दूल्हे-दुल्हनों के 450 परिजनों के लिए नास्ते और भोजन की व्यवस्था की गई थी। गौ सेवा समिति के पदाधिकारियों ने वहां स्टाल लगाकर करीब 600 लोगों को अमूल लस्सी पिलाई। इस अवसर पर सह संरक्षक बसंत कुमार गौतम, अध्यक्ष डूंगरमल अग्रवाल, उपाध्यक्ष निर्मल जालान, राजेंद्र प्रसाद अग्रवाल, सचिव मनोज चौधरी, सुरेश चौधरी, पुर्णमल सर्राफ, नंद किशोर चौधरी, प्रमोद सारस्वत, शिव भगवान अग्रवाल, अरविंद अग्रवाल, विशाल जालान, अमित पोद्दार, ओमप्रकाश सरावगी, सिताराम चौधरी, विष्णु सोनी आदि उपस्थित थे। ज्ञात हो कि स्वामी सदानंद महाराज द्वारा अब तक 6000 निर्धन कन्याओं का विवाह कराया जा चुका है।

उनके द्वारा सामुहिक विवाह का आयोजन 2005 से किया जा रहा है। विश्व हिंदू परिषद समन्वय मंच के प्रांत प्रमुख अशोक अग्रवाल ने निर्धन जोड़ों के चयन और विवाह के लिए रजिस्ट्रेशन करने की भूमिका निभाया।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply