बिहार

हत्या: पप्पू भगत की हत्या से पूर्व राजद जिलाध्यक्ष को कितना राजनीतिक फायदा, होगी जांच

wcnews.xyz
Spread the love

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भागलपुर7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • बंदेहरा पंचायत के मुखिया पद पर पहले संजीव का रहा है कब्जा

खगड़िया के बंदेहरा पंचायत के पूर्व मुखिया व जदयू नेता राजेश कुमार रमन उर्फ पप्पू भगत की हत्या से आरोपी राजद के पूर्व जिलाध्यक्ष संजीव यादव को क्या राजनीतिक फायदा हुआ, पुलिस इसकी जांच करेगी। एसएसपी ने इस बावत केस के आईओ को जांच और सबूत जुटाने का निर्देश दिया है। मामले में संजीव समेत 6 आरोपी फरार हैं। कोर्ट से सभी के खिलाफ वारंट और इश्तेहार जारी हो चुका है और अब कुर्की-जब्ती की बारी है। पुलिस की जांच में आया है कि हत्या की साजिश का मुख्य सूत्रधार संजीव यादव है। क्योंकि पहले वे बंदेहरा के मुखिया थे।

बाद में पप्पू भगत और उनकी पत्नी मुखिया रही। इस मामले में गिरफ्तार प्रेमरंजन यादव पुलिस को बताया था कि काली पूजा में अपने ससुराल बंदेहरा गए थे तो वहां पूर्व मुखिया संजीव यादव के घर अपने साला टिंकू यादव, कौशल यादव, बबलेश यादव, गांधी यादव, बीरबल यादव के साथ गए थे। वहां पहले से बीरबल का साला अमर यादव, गांधी यादव का समधी निरंजन यादव भी था।

सभी ने मिलकर वहां पप्पू भगत की हत्या की साजिश रची। पप्पू भगत पर पूर्व में हुई गोलीबारी मामले में भी उक्त लोग आरोपी थे। चार दिसंबर 2020 की शाम सवा पांच बजे अपराधियों ने भीखनपुर में आरबीएसएस रोड के थियोसॉफिकल लॉज के पास पुरानी रंजिश में खगड़िया के बंदेहरा पंचायत के पूर्व मुखिया राजेश कुमार रमन उर्फ पप्पू भगत को अपराधियों ने गोलियों से भून डाला था। पप्पू को चार गोली मारी गई थी, जिससे

मौके पर ही उनकी मौत हो गई थी। जबकि पूर्व मुखिया को मारने आया एक शूटर मुंगेर के जानकीनगर हर्दियाबाद गांव निवासी रतन कुमार साह भी अपने साथी के गोली से मारा गया था और एक जख्मी हो गया था। उधर, संजीव यादव के भाई ने एसएसपी का आवेदन देकर इस हत्या में अपने पिता और भाई को निर्दोष बताया है।

इन सभी बिंदुओं पर पुलिस जुटाएगी सबूत
किसने दी सुपारी : अब तक की जांच में यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि पप्पू भगत की हत्या की सुपारी किसने दी। सुपारी किसने ली, इसके बारे में पुलिस ने जानकारी जुटाई है। अब शूटर राकेश ठाकुर की गिरफ्तारी के बाद ही सुपारी देने वाले के नाम का खुलासा होगा।
शूटरों से कनेक्शन : आरोपी राजद नेता संजीव यादव और शूटरों का कनेक्शन का भी अब तक पुलिस पता नहीं लगा पाई है। दोनों के बीच फोन से बात हुई है तो पुलिस उसका डिटेल्स जुटाएगी।
कौशल-बबलेश को क्या मिला प्रलोभन : गिरफ्तारी के बाद आरोपी कौशल यादव, बबलेश यादव ने संजीव यादव के बारे में कई जानकारी पुलिस को दी है। उन जानकारियों में कितनी सच्चाई है, पुलिस इसकी भी जांच करेगी।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply