झारखंड

रांची में नहीं निकलेगी सरहुल यात्रा: प्रशासन और सरना समितियों के बीच बनी सहमति, 52 साल में दूसरी बार सरहुल के दिन रांची की सड़कों पर पसरा रहेगा सन्नाटा

wcnews.xyz
Spread the love

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांची5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
बैठक के दौरान DC ने कहा कि विभिन्न सरना समितियों को ही समाधान निकालना है। - Dainik Bhaskar

बैठक के दौरान DC ने कहा कि विभिन्न सरना समितियों को ही समाधान निकालना है।

रांची में सरहुल पर्व के दौरान सरना समितियों की ओर से जुलूस या शोभायात्रा नहीं निकाली जाएगी। DC के साथ विभिन्न सरना समितियों के साथ बैठक में यह फैसला लिया गया है। रांची में लगातार बढ़ रहे कोविड के मामले को देखते हुए समितियों ने एकमत होकर फैसला लिया कि इस बार शोभायात्रा नहीं निकाली जाएगी। सिरम टोली स्थित मुख्य सरना स्थल पर 5 लोगों को पूजा पाठ करने की अनुमति दी गई है। बैठक के दौरान ये निर्णय लिया गया कि विभिन्न मौजा से अधिकतम 5 लोग मुख्य सरना स्थल पर कोविड-19 के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए पहुंचेंगे और बारी-बारी से पूजा लौट जाएंगे। इस दौरान ढोल नगाड़ा साथ लाने के अनुमति नहीं होगी। साथ ही अलग-अलग मौजा से अधिकतम 5 लोग पैदल न आकर वाहन से आयेंगे।

52 साल में दूसरी बार लगी है रोक
52 साल में ऐसा दूसरी बार है जब रांची में शोभायात्रा नहीं निकलेगी। इससे पहले पिछले साल भी कोविड के कारण शोभायात्रा पर रोक लगा दी गई थी। बैठक में सिटी SP सौरभ, रांची अनुमंडल पदाधिकारी समीरा एस भी शामिल थीं।

DC ने कहा- सरकार का आदेश लागू करने में सहयोग करें
बैठक के दौरान DC ने कहा कि विभिन्न सरना समितियों को ही समाधान निकालना है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार की ओर से जो आदेश दिया गया है उसे लागू करने में सरना समितियां सहयोग करें। कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रहते हुए सरकार के दिशा निर्देशों का अनुपालन करते हुए पर्व मनाएं।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply