बिहार

मुन्ना भाइयों ने लिया था पास कराने का ठेका: मैट्रिक परीक्षा में बोर्ड के दावों के बीच दिखा था नकलचियों का दम

wcnews.xyz
Spread the love

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Matric Exam Result News Update; Munna Bhai Taken Contract To Pass The Students In Exam

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना13 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar

फाइल फोटो।

  • 19 मार्च की पुनर्परीक्षा में भी खुली थी नकल की पोल, बोर्ड ने रद किया था एग्जाम

आज मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट आ रहा है, इससे पहले जान लें कि इस परीक्षा को पास कराने का ठेका कितने में मिल रहा था, कितने लोग इस ठेकेदारी में किस जिले से हत्थे चढ़े और कितने मुन्नाभाई फरार हो गए? इस परीक्षा के बाद भी कॉल कर पास कराने का ठेका ले रहे थे जालसाज। मैट्रिक परीक्षा में भी नकलचियों ने बिहार बोर्ड के दावों की पोल खोली थी। पास कराने का ठेका लेकर मुन्ना भाइयों के परीक्षा देने के साथ नकलचियों की बड़ी खेप भी पकड़ी गई। हालांकि इसके पीछे बिहार बोर्ड परीक्षा में सख्ती की बड़ी वजह बताता है। नकल की बड़ी प्लानिंग का खुलासा 19 फरवरी को हुआ था, जब पेपर लीक होने के बाद बोर्ड को परीक्षा कैंसिल करनी पड़ी थी। पूरी परीक्षा के दौरान हर जिले से नकलची पकड़े गए थे।

पुनर्परीक्षा में नकलचियों की इंट्री

बिहार बोर्ड ने 19 फरवरी को प्रथम पाली में सामाजिक विज्ञान की परीक्षा आयोजित की थी, लेकिन नकल की बड़ी प्लानिंग का खुलासा होने के बाद इसे रद कर दिया गया था और फिर 8 मार्च को परीक्षा कराई गई थी। सामाजिक विज्ञान विषय की पुनर्परीक्षा में भी नकलचियों के साथ मुन्ना भाइयों की इंट्री का खुलासा हुआ था। इस दौरान पूरे प्रदेश से 3 परीक्षार्थियों को निष्कासित किया गया था जबकि 4 मुन्ना भाइयों को भी पकड़ा गया था जो दूसरे परीक्षार्थियों की जगह पर एग्जाम दे रहे थे।

बिहार बोर्ड ने पकड़े थे 57 मुन्ना भाई

बिहार बोर्ड ने मैट्रिक परीक्षा के दौरान 57 मुन्ना भाइयों को पकड़ा था जो दूसरे के स्थान पर बैठकर परीक्षा दे रहे थे। इसमें पटना में 2, भोजपुर में 2, गया में 9, नवादा में 3, औरंगाबाद में 1, अरवल में 1, सुपौल में 11, मधेपुरा में 9, भागलपुर, खगड़या, बक्सर और दरभंगा में एक-एक मुन्ना भाई पकड़े गए। जबकि कैमूर में दो, जहानाबाद में 4 और मुंगेर में 5 मुन्ना भाई दूसरे परीक्षार्थी की जगह परीक्षा देते पकड़े गए थे।

211 नकलचियों को बोर्ड ने किया था निष्कासित

मैट्रिक परीक्षा 2021 में कोरोना काल की सख्ती के साथ हर लेयर पर मानीटरिंग की जा रही थी। इसके बाद भी परीक्षार्थी नकल करने में बड़ी हिम्मत दिखाने को तैयार थे। परीक्षा के दौरान कुल 211 परीक्षार्थियों को नकल करते पकड़ा गया जिसके बाद बोर्ड ने उन्हें निष्कासित कर दिया था। बिहार बोर्ड ने दावा किया था कि परीक्षा पूरी तरह से नकलविहीन है और इसमें नकल करने वालों को गेट से लेकर परीक्षा कक्ष तक पकड़ा गया है। मानीटरिंग की इतनी व्यवस्था की गई थी कि परीक्षार्थियों की दाल नहीं गली।

भोजपुर में खूब धरे गए नकलची

बिहार बोर्ड ने परीक्षा के दौरान 211 नकलचियों को बोर्ड परीक्षा के दौरान पकड़ा था। इसमें भोजपुर में सबसे अधिक 48 नकलची पकड़े गए थे। पटना में 3, नालंदा में 20, गया में 6, औरंगाबाद में 11, अरवल में 2, सारण में 20, सुपौल में 5, मधेपुरा में 9, भागलपुर में 2, लखीसराय में एक, बक्सर में एक, रोहतास में 13, सीतामढ़ी में 2, वैशाली में 10, पूर्वी चंपारण में एक, सीवान में 7, दरभंगा में एक, मधुबनी में एक, समस्तीपुर में 4, सहरसा में 3, मुंगेर में 24, जमुई में 10, बेगूसराय में 3 और अररिया में एक मुन्ना भाई को पकड़ा गया था। बिहार बोर्ड का कहना है कि यह सभी दूसरे के स्थान पर परीक्षा दे रहे थे।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply