भारत

मनसुख हीरेन की मौत की गुत्थी सुलझाने का दावा: महाराष्ट्र ATS ने कहा- एंटीलिया केस से जुड़े कारोबारी का मर्डर हुआ, 2 सस्पेंड कॉन्स्टेबल और एक बुकी अरेस्ट

wcnews.xyz
Spread the love

  • Hindi News
  • National
  • 3 People Arrested In The Murder Of Businessman Associated With The Antilia Case, Among Them 2 Suspended Constables Of Police And One Bookie

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
यह फोटो मनसुख हिरेन की है। उनका शव 5 मार्च को मुम्ब्रा की खाड़ी में मिला था। इस मामले की जांच महाराष्ट्र ATS कर रही थी। -फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar

यह फोटो मनसुख हिरेन की है। उनका शव 5 मार्च को मुम्ब्रा की खाड़ी में मिला था। इस मामले की जांच महाराष्ट्र ATS कर रही थी। -फाइल फोटो।

महाराष्ट्र महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (ATS) ने एंटीलिया केस से जुड़े कारोबारी मनसुख हीरेन की मौत का केस सुलझाने का दावा किया है। ATS के DIG शिवदीप लांडे ने रविवार दोपहर को यह बात कही। उन्होंने कहा कि इस मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें में 2 महाराष्ट्र पुलिस से सस्पेंड कॉन्स्टेबल हैं, जबकि एक सटोरिया है। दोनों पूर्व कॉन्स्टेबल के नाम विनायक शिंदे और नरेश धारे हैं। ATS का कहना है कि मनसुख की हत्या के पीछे इन लोगों का हाथ है।

महाराष्ट्र ATS के DIG शिवदीप लांडे ने मनसुख हिरेन की मौत का मामला सुलझने की बात सोशल मीडिया पर भी शेयर की।

महाराष्ट्र ATS के DIG शिवदीप लांडे ने मनसुख हिरेन की मौत का मामला सुलझने की बात सोशल मीडिया पर भी शेयर की।

ATS के DIG शिवदीप लांडे ने इस मामले को अपने करियर के सबसे चुनौती भरे केस में से एक बताया। दरअसल, मुकेश अंबानी के घर के पास से बरामद SUV के मालिक मनसुख हीरेन की मौत की जांच महाराष्ट्र ATS कर रही थी।

केंद्र सरकार ने शनिवार को ही इस मामले की जांच NIA को सौंपी थी। गृह मंत्रालय से NIA जांच का नोटिफिकेशन जारी हुए एक दिन ही बीता है, तभी राज्य की ATS नेे मामले का खुलासा करने का दावा किया है।

मुम्ब्रा की खाड़ी में 5 मार्च को मिला था मनसुख का शव
मनसुख का शव 5 मार्च को मुम्ब्रा की खाड़ी से बरामद हुआ था। उनकी पत्नी ने CIU के पूर्व अधिकारी सचिन बझे पर हत्या करवाने का आरोप लगाया था। पूर्व CM फडणवीस द्वारा इस मामले को विधानसभा में उठाने के बाद गृह मंत्री अनिल देशमुख ने इसकी जांच ATS को सौंप दी थी। ATS ने सेक्शन 8 के तहत इस जांच को NIA को सौंपने का फैसला किया था। नियम के मुताबिक, अगर एजेंसी किसी एक अनुसूचित अपराध की जांच कर रही है तो वह साथ में ही अपराधी द्वारा किए अन्य किसी मामले की जांच भी कर सकती है।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply