झारखंड

बेड की समस्या बढ़ी: सदर अस्पताल में 59 वेंटिलेटर बेड भी उपलब्ध, पर चलाने वाला एक्सपर्ट नहीं

wcnews.xyz
Spread the love

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांचीएक दिन पहले

  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar

फाइल फोटो

  • कई गंभीर मरीज वेंटिलेटर सपोर्टेड बेड पर हैं पर नहीं मिल रही सुविधा

बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण अस्पतालों में बेड की समस्या भी बढ़ती जा रही है। पर, सरकारी व्यवस्था के तहत जो बेड अस्पतालों में हैं, वह सिर्फ आई वॉश के लिए है। सदर अस्पताल में कोविड संक्रमितों के लिए 138 बेड रिजर्व है। 82 मरीज भर्ती भी हैं।

इन मरीजों में कई ऐसे हैं, जिन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट की जरूरत है। यहां 80 से अधिक बेड ऑक्सीजन सपोर्टेड है। 59 बेड में वेंटिलेटर की भी व्यवस्था है। लेकिन एक भी वेंटिलेटर आज तक नहीं चला है। कोविड वार्ड के कर्मचारियों ने बताया कि अस्पताल में कोई एक्सपर्ट वेंटिलेटर चलाने योग्य नहीं है।

एक एनेस्थेटिस्ट कार्यरत हैं, पर वे मेडिकल ऑफिसर

सदर अस्पताल में में डॉ. पंकज एनेस्थेटिस्ट हैं। प्रबंधन उन्हें एनेस्थेटिस्ट मानता भी है। लेकिन उनका कहना है कि वे अस्पताल में बतौर मेडिकल ऑफिसर सेवा दे रहे हैं।

दो दिनों में मिलेंगे 12 चिकित्सक

सिविल सर्जन डा. वीबी प्रसाद ने कहा कि चिकित्सकों की कमी से वेंटिलेटर शुरू नहीं हो पा रहा है। समस्या से विभाग को अवगत कराया गया था। अलग-अलग मेडिकल कॉलेजों से दाे दिनों के भीतर 12 चिकित्सकाें की प्रतिनियुक्ति की जाएगी।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply