बिहार

बिहार के गौरव-9: उम्र 20 साल, सोशल मीडिया पर फॉलोअर 1 करोड़, मिथिला की माटी से उभरी मैथिली ने ‘लोक’ को ‘गीत’ से जोड़ा

wcnews.xyz
Spread the love

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Meet Bihar’s Celebrity Maithili Thakur More Than One Crore People Follow On Social Media

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटनाएक घंटा पहलेलेखक: फिरोज अख्तर

  • कॉपी लिंक

22 मार्च को बिहार दिवस है। बिहार के निर्माताओं को उनके योगदान के लिए नमन करते हुए भास्कर ऐसी 10 शख्सियतों से रू-ब-रू करा रहा है, जो नई पहचान बने हैं। मिसाल बन रहे हैं। आज के हिसाब से नई पीढ़ी को जिनसे प्रेरणा मिल रही है। 9वें दिन, आज जानें कि एक बिहारी कैसे कम उम्र में शोहरत की बुलंदियों पर पहुंच गई।

बिहार की मैथिली ठाकुर आज किसी परिचय का मुहताज नहीं है। फेसबुक पर 1 करोड़ 46 लाख 881, यू ट्यूब पर 60 लाख और इंस्टाग्राम पर 26 लाख लोग जिस 20 साल की लड़की को फॉलो करते हैं, निश्चित तौर पर वह असाधारण ही होगी। गांव-घर के गीतों से यह मुकाम हासिल करने वाली मैथिली ठाकुर के गीतों की गूंज अब देश के कोने-कोने से होती हुई सरहदों की रेखाएं भी पार कर गई हैं। बिहार दिवस पर दैनिक भास्कर से विशेष बातचीत में मैथिली ने साझा किया गीतों का उनका अब तक का सफर।

दादा से मिली प्रेरणा, पापा ने मंजिल तक पहुंचाई
करोड़ों लोगों को अपनी मधुर आवाज का दिवाना बना देने वाली मैथिली ठाकुर मधुबनी जिले के बेनीपट्‌टी थाना क्षेत्र के ओरेन गांव की हैं। दादा शोभा सिंधु ठाकुर राम-सीता विवाह कीर्तन गाते थे। घर में शुरू से ही गीत-संगीत का माहौल था। दादा के गीतों के प्रभाव ने बचपन में ही मैथिली के जीवन का लक्ष्य तय कर दिया। उन्हीं से प्रभावित होकर मैथिली ने बचपन में ही गाना शुरू कर दिया। पहला गाना गाया मैथिली ब्राह्मण गीत। ब्राह्मण बाबू यौ कनियो-कनियो करियो ने सहाय। 10 साल की उम्र में गांव से पापा के पास दिल्ली आ गई। म्युजिक टीचर पापा ने अपने मार्गदर्शन में मैथिली को गीत-संगीत की तमाम बारीकियां सिखाकर आगे बढ़ने का एक लक्ष्य दे दिया।

लिट्ल चैंप से बड़े ऑडिएंश के बीच गाया
बड़े ऑडिएंश के बीच गाने की शुरुआत लिट्ल चैंप से हुई। जीवन की पहली प्रतियोगिता थी। नर्वसनेस था फिर भी टॉप-30 में आईं। फिर आगे बढ़ने का जो सिलसिला शुरू हुआ तो बढ़ती ही गईं। 2015 में इंडियन आइडल में गईं। मैथिली लोकगीतों से शुरू हुआ सफर क्लासिकल में मंझे हुए कलाकार की श्रेणी में ला दिया। राइजिंग स्टार में फर्स्ट रनर अप रहीं।

अब तक मिल चुके हैं कई सम्मान
राजीव गांधी अवार्ड, आई जिनियस यंग सिंगिंग स्टार अवार्ड सहित, वीमेंस डे पर प्रसार भारती ने सम्मानित किया। केंद्रीय महिला आयोग ने सम्मान से नवाजा। इसी तरह छोटी-सी उम्र में दर्जनों सम्मान हासिल कर मैथिली ठाकुर आज युवाओं के लिए प्रेरणा बन गई हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply