बिहार

पटना में संक्रमित करने वाली जांच की व्यवस्था: 10 बजे लाइन में लगे संदिग्धों की 3 बजे तक नहीं हो पाई कोरोना जांच, खूब हुई धक्का-मुक्की

wcnews.xyz
Spread the love

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
पटना के न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल में कोरोना जांच के लिए उमड़ी भीड़। - Dainik Bhaskar

पटना के न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल में कोरोना जांच के लिए उमड़ी भीड़।

  • न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल में मनमानी से आक्रोशित लोगों ने किया हंगामा
  • अस्पताल पहुंचे दीघा विधायक को भीड़ ने घेरा, कहा सब हो जाएंगे संक्रमित

पटना में जांच की व्यवस्था ही संक्रमित बनाने वाली है। घंटों लाइन में लगने के बाद भी जांच नहीं हो पाती है। संक्रमण के साथ ही जांच केंद्रों पर भीड़ बढ़ रही है। जांच की रफ्तार धीमी होने से संक्रमितों को घंटों लाइन में लगना पड़ता है और यहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पाता है। इस व्यवस्था में जो संक्रमित नहीं हैं, उन्हें भी संक्रमितों के क्लोज कांटेक्ट में आने से पॉजिटिव होने का खतरा है। शहर के न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल में तो इस व्यवस्था के खिलाफ लोगों का आक्रोश फूट गया। बुधवार को सुबह 10 बजे से लाइन में लगे लोगों की जब शाम तक जांच नहीं हुई तो वह हंगामा करने लगे। इस बीच अस्पताल पहुंचे दीघा विधायक को भी लोगों ने घेर लिया। विधायक भी भीड़ देख दंग रह गए और बोले व्यवस्था में सुधार कराई जाएगी।

जांच के नाम पर पूरा दिन हो रहा खराब

पटना के रहने वाले अजय सिंह ने बताया कि वह 3 घंटे से लाइन में लगे हैं, लेकिन काउंटर से भीड़ खत्म नहीं हो रही है। उनका कहना है कि जब वह लाइन लगाए तो मात्र 46 लोग ही थे, लेकिन तीन घंटे में 46 लोगों की जांच नहीं हो पाई। आरोप है कि काउंटर के अंदर से पैरवी वालों की जांच कराई जाती है। इससे आमलोगों का पूरा दिन जांच में ही चला जाता है। अजय का कहना है कि जांच की ऐसी व्यवस्था बनाई गई है कि यहां जो पॉजिटिव भी नहीं हो, वह भी लाइन में संक्रमित हो जाएगा। अस्पताल में जगह ही नहीं है, जहां लाइन लगाई जाएगी।

लाइन में लगा हर इंसान जांच के साथ संक्रमण से परेशान

न्यू गार्डिनर रोड अस्पताल में बुधवार को जांच के लिए लाइन में दोपहर तक दो सौ से अधिक लोग थे। जांच की लंबी लाइन में लगे हर किसी को यही डर था कि कहीं जांच के दौरान ही न पॉजिटिव हो जाएं। अस्पताल के काउंटर पर जहां से पर्ची बनती है, वहां से मेन गेट तक लोग लाइन में लगे हुए थे। लाइन में कई ने मास्क भी नहीं लगाया था। लाइन में कई ऐसे लोग भी दिखे, जिन्हें खांसने और छींकने की शिकायत थी। इस कारण से लोग डर रहे थे। ऐसे में कौन किसे पॉजिटिव कर दे, इसका कोई ठिकाना नहीं होता। पटना के किदवईपुरी के राज कुमार, इनकम टैक्स के सुरेश के साथ बैंक कर्मी राजेश शर्मा ने बताया कि वह सुबह से ही लाइन में लगे हैं, लेकिन जांच नहीं हो पाई है। कोई ऑफिस छोड़कर आया है तो कोई घर का काम छोड़ जांच कराने आया है।

विधायक को घेरकर लोगों ने कहा यही जांच की व्यवस्था है?

गार्डिनर रोड अस्पताल पर पहुंचे दीघा विधायक संजीव चौरसिया को जांच के लिए लाइन में लगे लोगों ने घेर लिया और सवाल किया कि क्या यही व्यवस्था है? लोगों ने कहा कि इस व्यवस्था में तो स्वस्थ इंसान भी संक्रमित हो जाएगा। विधायक के पास कोई जवाब नहीं था। वह बार-बार यही कह रहे थे कि व्यवस्था सही कराई जा रही है। विधायक से दर्जनों लोगों ने यही शिकायत की है कि ऐसी व्यवस्था में जांच के लिए आया व्यक्ति लाइन में ही संक्रमित हो जाएगा।

सब्र टूटा तो पहुंच गए काउंटर के अंदर, किया हंगामा

कड़ी धूप में घंटों लाइन में जांच के लिए लगे लोगों का सब्र दोपहर 3 बजे टूट गया। जांच के लिए आए लोग आक्रोशित हो गए और काउंटर के अंदर जाकर हंगामा करने लगे। काफी देर तक बवाल मचा रहा। लोगों का आरोप था कि काउंटर पर मनमानी की जा रही है। अस्पताल प्रशासन का कहना है कि डाटा ऑपरेटरों की कमी के कारण काम में बाधा आ रही है। कई बार सिविल सर्जन से मांग की गई है, लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply