झारखंड

नन्हे फरिश्ते ने किशोरी को तस्करों से बचाया: सिमडेगा की किशोरी को ले जाया जा रहा था गुड़गांव, RPF की टीम ने रांची रेलवे स्टेशन पर पकड़कर चाइल्ड लाइन को सौंपा

wcnews.xyz
Spread the love

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांची9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
RPF ने किशोरी को चाइल्ड लाइन रांची को सौंप दिया है। - Dainik Bhaskar

RPF ने किशोरी को चाइल्ड लाइन रांची को सौंप दिया है।

RPF की ओर से गठित की गई विशेष टीम नन्हे फरिश्ते की तत्परता से झारखंड की एक किशोरी तस्करों का शिकार होने से बच गई। सिमडेगा की एक लड़की को जम्मू तवी एक्सप्रेस से गुड़गाव भेजने की तैयारी की जा रही थी। किशोरी को फिलहाल चाइल्ड लाइन को सौंप दिया गया है। यहां से उसे वापस उसके परिजनों को सौंपा जाएगा।

दरअसल नन्हें फरिश्ते टीम की उप निरीक्षक सुनीता तिर्की, कांस्टेबल मंजू कुजुर और महिला कांस्टेबल चंद्रिका कच्छप रेलवे स्टेशन पर चेकिंग कर रही थीं। तभी शक के आधार पर गेट पर ही रोककर एक किशोरी से पूछताछ की गई। उसने बताया कि वह जम्मू तवी एक्सप्रेस से गुड़गांव जा रही है। गुड़गांव में कहां जाना है, वह यह नहीं बता पाई।

15 अगस्त 2020 से यह टीम 30 किशोरियों को बचा चुकी है
15 अगस्त से इस अभियान की शुरुआत की गई थी। इसका उद्देश्य बच्चों को बहला-फुसला कर ले जाने वाले तस्करों के चंगुल से मुक्त कराना है। अभी तक 30 से ज्यादा बच्चों को टीम बचा चुकी है। साथ ही 10 तस्करों को भी गिरफ्तार किया गया है।

विशेष टीम रखती है नजर
ये टीम इस बात पर नजर रखती है कि कोई बच्चों को बहला-फुसलाकर तो नहीं ले जा रहा है। उन्होंने बताया कि CCTV के अलावा सादे लिबास में भी RPF के जवान प्लेटफॉर्म पर घूम कर इसकी निगरानी करते हैं। संदेह होने पर व्यक्तियों से पूछताछ भी की जाती है।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply