अन्तराष्ट्रीय

जापान के शहर निशेको से ग्राउंड रिपोर्ट: निशेको वीरान है, यहां की मखमली बर्फबारी देखने दुनियाभर से रईस एक रात के लिए 21 लाख रुपए खर्च करते हैं, यहां लेडी गागा का भी निजी हैलीपैड

wcnews.xyz
Spread the love

  • Hindi News
  • International
  • Nisheko Is Deserted, Rich People From Around The World Spend 21 Lakh Rupees For A Night To See The Velvety Snowfall Here, Lady Gaga’s Personal Helipad Here Too

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

17 घंटे पहलेलेखक: निशेको से भास्कर के लिए जूलियन रायल

  • कॉपी लिंक
कोरोना वायरस के चलते जापान में सैलानियों के आने पर प्रतिबंध ने निशेको के पर्यटन उद्योग को धराशाई कर दिया है। फिलहाल 1308 मीटर ऊंचे माउंट निशेको अनुपुरी की ढलानों पर स्कीइंग करने के लिए गिने-चुने लोग दिख रहे हैं। - Dainik Bhaskar

कोरोना वायरस के चलते जापान में सैलानियों के आने पर प्रतिबंध ने निशेको के पर्यटन उद्योग को धराशाई कर दिया है। फिलहाल 1308 मीटर ऊंचे माउंट निशेको अनुपुरी की ढलानों पर स्कीइंग करने के लिए गिने-चुने लोग दिख रहे हैं।

  • जहां कोरोना ने धराशाई कर दिया पर्यटन उद्योग, अब उम्मीद कि दिन बदलेंगे

​​​​​​जापान के होक्काइडो प्रांत में पहाड़ियों के बीचोबीच निशेको शहर बसा है। 2019 के क्रिसमस और नववर्ष के दौरान यहां के सभी होटल, लग्जरी विला से लेकर रुकने-ठहरने की हर जगह फुल थी। दरअसल, दुनियाभर के रईस यहां स्कीइंग और बर्फबारी का लुत्फ उठाने के लिए आते हैं क्योंकि यहां गिरने वाली बर्फ मखमली जैसी मुलायम होती है।

इस मखमली स्नो को जापानी भाषा में ‘जापो’ कहते हैं। लेकिन कोरोना वायरस के चलते जापान में सैलानियों के आने पर प्रतिबंध ने निशेको के पर्यटन उद्योग को धराशाई कर दिया है। फिलहाल 1308 मीटर ऊंचे माउंट निशेको अनुपुरी की ढलानों पर स्कीइंग करने के लिए गिने-चुने लोग दिख रहे हैं। जनवरी 2020 में होक्काइडो में 2 लाख सैलानी आए थे। फरवरी आते-आते ये घटकर आधे रह गए थे और अप्रैल से दिसंबर तक महज 12 विदेशी सैलानी यहां आए।

हालांकि अल्ट्रा लग्जरी होटल संचालकों को अब भी उम्मीद है कि यहां जल्द इतने सैलानी दिखाई देंगे, जितने इस क्षेत्र ने पहले कभी नहीं देखे। इस क्षेत्र में एच-2 ग्रुप के 150 होटल हैं। इस होटल चेन के को-सीईओ माइकल चेन भास्कर को बताते हैं कि बीते साल फरवरी में उनकी सारी संपत्ति हाउस फुल थी। लेकिन कोरोना की वजह से रातोरात सब बदल गया। सरकार ने गो टू ट्रैवल कैंपेन तक रद्द कर दिया। इसके तहत जापान के लोगों को घूमने-फिरने पर सब्सिडी मिलती है। एच-2 ग्रुप के ग्राहक दुनियाभर के रईस हैं।

यहां के लग्जरी सुईट में एक रात गुजारने के लिए ये रईस करीब 21 लाख रुपए खर्च करते हैं और तब भी यहां के सारे सुईट पैक रहते थे। चेन बताते हैं कि उनके क्लाइंट सिलीकॉन वैली के अरबपतियों से लेकर यूरोप और एशिया के सबसे रईस लोग हैं। लेडी गागा का हेलीपैड भी यही नजदीक है। वे इसको प्राइवेट ही रखना चाहती हैं। चेन का मानना है कि दुनियाभर में कहीं भी स्कीइंग कर लेने के बाद जब कोई क्लाइंट निशेको पहली बार आता है तो वह पाउडर जैसी मखमली बर्फबारी के साथ-साथ यहां की संस्कृति, व्यंजन और आबोहवा से भी प्यार करने लगता है।

लोग आएं, इसलिए ताइवान-हांगकांग में कैंपेन

  • होक्काइडो पर्यटन संगठन की हेड काओरी इनोयु कहती हैं कि हम ताइवान-हांगकांग में लोगों को आमंत्रित करने के लिए डिजिटल कैंपेन चला रहे हैं। उम्मीद है यह इलाका पहले की तरह ही सैलानियों से गुलजार होने लगेगा।
  • सायाका हमानो बताते हैं कि पहले जैसी स्थिति आने में 3 साल लग सकते है। साल के आखिर तक ग्रोथ दिख सकेगी।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply