झारखंड

जांच अभियान: जांच के नाम पर व्यापारियों को प्रताड़ित न करें- चैंबर अध्यक्ष

wcnews.xyz
Spread the love

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रांची17 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • जांच अभियान के नाम पर केवल दुकानदारों को ही साॅफ्ट टार्गेट करना उचित नहीं

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जिला प्रशासन द्वारा चलाए जा रहे सघन जांच अभियान का स्वागत करते हुए झारखंड चैंबर ने कहा कि व्यवसायी वर्ग भी इस दिशा में जिला प्रशासन का सहयोग देने के लिए तैयार है। लेकिन, जांच अभियान के नाम पर केवल दुकानदारों को ही साॅफ्ट टार्गेट करना उचित नहीं है। चैंबर अध्यक्ष प्रवीण जैन छाबड़ा ने कहा कि संक्रमण की दूसरी लहर से व्यवसायी हतोत्साहित हैं और इसे नियंत्रित करने के लिए दुकानदारों द्वारा सभी एसओपी का पालन सुनिश्चित किया जा रहा है।

पर, चेकिंग अभियान के दौरान केवल दुकानदारों को एसओपी का पालन नहीं करने के नाम पर दुकानें सील कर देना न्यायसंगत नहीं है। एसओपी का पालन केवल दुकानों में ही नहीं हो रहा है, ऐसी बात नहीं है। क्या दुकान सील कर देने से महामारी से निजात पाया जा सकता है? यदि ऐसा है तो सभी व्यवसायी स्वेच्छा से ही अपनी दुकानें बंद करने को तैयार हैं। जिला प्रशासन को ऐसे सभी जगहों जहां भीड़-भाड़ अधिक है पर भी कोविड के नियमों का पालन कराने की सख्ती दिखानी चाहिए। वर्तमान में मामलों की अधिकता को देखते हुए सघन जांच अभियान की आवश्यकता है। इस बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है पर यह जांच सभी स्तर पर यहां तक कि रास्ते पर चलते हुए लोगों तक भी होना चाहिए। चैंबर अध्यक्ष ने यह भी कहा कि चेकिंग के दौरान व्यापारियों को उनके कर्मचारियों की आरटीपीसीआर टेस्ट कराने के लिए बाध्य किया जा रहा है किंतु इस जांच हेतु किसी भी निजी या सरकारी संस्थान में उचित व्यवस्था उपलब्ध नहीं है। ऐसे में इस जांच के लिए व्यापारियों को बाध्य करना कहां तक उचित है।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply