व्यपार

कोविड काल में उधारी का ट्रेंड: एक चौथाई लोगों ने खुद का बिजनेस शुरू करने के लिए लोन मांगा; वॉशिंग मशीन, डिश वॉशर, लैपटॉप और टैबलेट के लिए भी निकली मांग

wcnews.xyz
Spread the love

  • Hindi News
  • Business
  • One Fourth Of Borrowers Took Personal Loan To Start Their Business In 2020

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

11 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

कोविड के चलते पिछले साल लोगों की उधारी में नया ट्रेंड नजर आया। महानगरों में बड़ी संख्या में लोगों ने अपना बिजनेस शुरू करने के लिए पर्सनल लोन मांगा। कामकाज को लेकर बदले हालात में वॉशिंग मशीन, डिश वॉशर जैसे रोजमर्रा के इस्तेमाल वाले घरेलू सामान के लिए लोन की मांग बढ़ी।

इसके अलावा लैपटॉप और टैबलेट जैसे रिमोट वर्किंग और ई-लर्निंग में मददगार गैजेट के लिए भी लोन की मांग में इजाफा हुआ। भव्य शादियों और सैर सपाटे पर खर्च के लिए लोन की मांग में गिरावट आई। इन बातों का पता इंडियालेंड्स नाम के डिजिटल प्लेटफॉर्म की बॉरोअर पल्स रिपोर्ट से चला है।

18% लोगों ने इलाज के लिए कर्ज मांगा था

पिछले साल 25% लोगों ने खुद का बिजनेस शुरू करने के लिए जबकि 18% लोगों ने इलाज के लिए कर्ज मांगा था। इनके अलावा 17% लोगों ने कोविड और उसकी वजह से हुए सामाजिक और आर्थिक बदलाव के चलते दोपहिया या चार पहिया गाड़ियां खरीदने के लिए लोन मांगा था।

डिजिटल प्लेटफॉर्म ने कोविड के दौरान लोगों की उधारी ट्रेंड का पता लगाने के लिए देशभर में कराए गए सर्वे के आधार पर अपनी रिपोर्ट बनाई है। सर्वे 25 मार्च 2020 से 20 मार्च 2021 के बीच टीयर 1 और टीयर 2 शहरों 21 से 55 साल की उम्र के देशभर के डेढ़ लाख बॉरोअर पर कराया गया है। रिपोर्ट में 10,000 से 50,00,000 रुपए तक का लोन लेने वाली औरतों और मर्दों को शामिल किया गया है।

लोन मांगने वालों में सबसे ज्यादा दिल्ली के थे

सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक लोन मांगने वालों में सबसे ज्यादा लोग दिल्ली के थे, लेकिन टीयर 2 शहरों के उधार लेने वालों की संख्या में 38% का उछाल देखा गया है। लग्जरी गुड्स और सर्विसेज पर होने वाले खर्च में कमी आने के चलते टीयर 1 शहरों में लोन की मांग कमजोर रही। इस रिपोर्ट में एक दिलचस्प बात यह सामने निकल कर आई है कि लगभग 52% बॉरोअर 25-35 साल की उम्र के थे।

मुंबई के 27% बॉरोअर्स खुद का बिजनेस करना चाहते थे

सर्वे के मुताबिक, उधार लेने वालों की जरूरतें अलग-अलग रहीं। उधार मांगने वाले दिल्ली के 31% लोग उससे वॉशिंग मशीन और डिशवॉशर जैसे घरेलू इस्तेमाल की चीजें खरीदना चाहते थे। यहां उधार मांगने वालों में 25% लोग ऐसे थे जिनको कोविड के चलते सिर पर अचानक पड़े खर्च पूरा करने के लिए पैसों की जरूरत थी।

मुंबई के बॉरोअर्स (27%) खुद का बिजनेस शुरू करने के लिए लोन मांग रहे थे, जबकि 15% लोग रिमोट वर्किंग की जरूरतों को देखते हुए लैपटॉप, टैबलेट वगैरह खरीदना चाहते थे। जहां तक बेंगलुरू की बात है तो यहां के 28% लोग इलेक्ट्रॉनिक गैजेट के लिए लोन लेना चाह रहे थे। यहां के 12% लोगों ने हुनर बढ़ाने वाले कोर्स के लिए लोन अप्लाई किया था। इससे अनुमान लगाया जा सकता है कि यहां के लोगों का ध्यान खाली समय का सदुपयोग अपस्किलिंग में करने पर रहा।

टीयर 2 शहरों में लखनऊ, इंदौर वालों के थे लोन के ज्यादा एप्लिकेशन

पिछले साल लोन के लिए अप्लाई करने वालों के बीच एक और दिलचस्प ट्रेंड दिखा। सर्वे के मुताबिक पिछले साल टीयर-1 शहरों (46%) से ज्यादा टीयर-2 शहरों (54%) के लोगों ने लोन मांगा। टीयर 2 शहरों में लोन के लिए सबसे ज्यादा एप्लिकेशन कोयंबटूर, चंडीगढ़, लखनऊ, इंदौर और कोच्चि वालों के थे। शादी-विवाह और सैर सपाटे पर होने वाले खर्च में कमी सर्वे के नतीजों का दूसरा दिलचस्प पहलू रहा।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply