व्यपार

कम रिटर्न पर फैसला: बिरला म्यूचुअल फंड 7 स्कीम्स को रोल ओवर करेगा, इनकी मैच्योरिटी अब 2022 और 2023 में पूरी होगा

wcnews.xyz
Spread the love

  • Hindi News
  • Business
  • Aditya Birla MF: Aditya Birla Sun Life Mutual Fund Will Roll Out 7 Fixed Maturity Plans

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
बिरला म्यूचुअल फंड ने कहा है कि जो निवेशक तारीख बढ़ाने से सहमत नहीं हैं, वे पैसे निकाल सकते हैं। एफएमपी मूलरूप से क्लोज्ड स्कीम्स होती हैं जो एक तय समय के लिए ही होती हैं। - Dainik Bhaskar

बिरला म्यूचुअल फंड ने कहा है कि जो निवेशक तारीख बढ़ाने से सहमत नहीं हैं, वे पैसे निकाल सकते हैं। एफएमपी मूलरूप से क्लोज्ड स्कीम्स होती हैं जो एक तय समय के लिए ही होती हैं।

  • इसी महीने में पूरी होने वाली थी इन सातों स्कीम्स की तारीख
  • इन सातों स्कीम को साल 2018 में लांच किया गया था

आदित्य बिरला सन लाइफ म्यूचुअल फंड ने 7 फिक्स्ड मैच्योरिटी प्लान (एफएमपी) को रोल ओवर करने का फैसला किया है। यानी इनकी मैच्योरिटी की तारीख आगे बढ़ा दी गई है। यह स्कीम्स इसी महीने में पूरी होने वाली थीं। अब इनकी मैच्योरिटी 2022 और 2023 में होगी। इन सभी स्कीम्स को साल 2018 में जनवरी, फरवरी और मार्च में लांच किया गया था।

जो निवेशक सहमत नहीं हैं, वे पैसा निकाल सकते हैं

आदित्य बिरला सन लाइफ फंड ने हालांकि कहा है कि जो निवेशक इससे सहमत नहीं हैं, वे चाहें तो अपना पैसा इसी महीने में मैच्योरिटी की तारीख पर निकाल सकते हैं। जिन 7 एफएमपी की मैच्योरिटी की तारीख बढ़ाने का फैसला किया गया है उनमें फिक्स्ड टर्म प्लान-1187 दिन, 1177 दिन, 1169 दिन, 1148 दिन, 1132 दिन, 1140 दिन और 1135 दिन की सिरीज वाली स्कीम्स हैं। इन स्कीम्स की तारीख 553 दिन से लेकर 783 दिन तक बढ़ाई गई है।

मैच्योरिटी की बढ़ी तारीख का ले सकते हैं फायदा

फंड हाउस ने निवेशकों को भेजे पत्र में कहा है कि जो यूनिट धारक इस मैच्योरिटी की नई तारीख के लिए अपनी मंजूरी नहीं दिए हैं उन्हें मैच्योरिटी की बढ़ी हुई तारीख का फायदा नहीं मिलेगा। इसके साथ ही पहले वाली तारीख पर ही उनकी यूनिट का पैसा उनको मिल जाएगा। यह पैसा उस दिन की नेट असेट वैल्यू यानी एनएवी के आधार पर दिया जाएगा।

कम रिटर्न की वजह से बढ़ाई तारीख

फंड हाउस ने कहा है कि इन सातों स्कीम्स की तारीख को इसलिए आगे बढ़ाया गया है, क्योंकि इन सभी का रिटर्न कम रहा है। निवेशकों को कम ब्याज देने की बजाय वर्तमान निवेशकों को इंडेक्सेशन का लाभ दिया जाए और उनके निवेश को कुछ और समय के लिए बढ़ा दिया जाए। पिछले साल बांड में भारी तेजी की वजह से ब्याज दरों में कटौती की गई जिसे रिजर्व बैंक ने कम रखा। इससे मैच्योरिटी की री-सेटिंग से निवेशकों को इन स्कीम्स में अच्छा अवसर लंबी अवधि में मिलेगा। साथ ही कैपिटल गेन लाभ भी मिलेगा।

क्लोज्ड स्कीम होती हैं एफएमपी स्कीम

एफएमपी मूलरूप से क्लोज्ड स्कीम्स होती हैं जो एक तय समय के लिए ही होती हैं। यानी आप अपने पैसे को एक तय समय के लिए निवेश कर सकते हैं और इसे आप समय पूरा होने पर ही निकाल सकते हैं। एफएमपी स्कीम स्कीम का रिटर्न शुरुआत में ही ज्यादातर मामलों में पता चल जाता है। इससे पहले भी कई फंड हाउसों ने इसी तरह से अपनी स्कीम्स की तारीख बढ़ाई थी। हाल में एचडीएफसी म्यूचुअल फंड ने भी इसी तरह से कुछ एफएमपी स्कीम्स की तारीख बढ़ाई थी।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply