भारत

कब्जे में जवान, धरने पर परिवार: CRPF के कोबरा कमांडो की पत्नी बोलीं- नक्सलियों के कब्जे में 4 दिन से हैं पति, वापस क्यों नहीं ला रही सरकार?

wcnews.xyz
Spread the love

  • Hindi News
  • National
  • Jammu And Kashmir । CRPF Jawan Rakeshwar Singh Manhas । Family Members Protest In Jammu Akhnoor Highway । Demands Release Of CRPF Jawan । Captive By Naxals From Bijapur

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

नक्सलियों के कब्जे में फंसे CRPF जवान राकेश्वर सिंह मन्हास की पत्नी मीनू ने बुधवार को जम्मू-अखनूर हाईवे पर धरना दिया। उन्होंने सरकार से अपने पति को नक्सलियों की कैद से जल्द छुड़ाने की मांग की। उनके साथ करीब 100 से ज्यादा स्थानीय लोग भी मौजूद रहे। मीनू ने कहा कि उनके पति को नक्सलियों की कैद में 4 दिन बीत चुके हैं, लेकिन सरकार उन्हें बचाने के लिए कोई कदम नहीं उठा रही।

केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) जवान राकेश्वर की मां ने कहा कि मुझे सिर्फ मेरा बेटा वापस चाहिए। क्या सरकार के लिए एक जवान की जिंदगी की कोई कीमत नहीं है। उनके ससुर ने कहा कि सरकार इतनी असंवेदनशील कैसे हो सकती है। चार दिन बीत चुके हैं, लेकिन सरकार की तरफ से कोई आश्वासन नहीं मिला है।

CRPF जवान राकेश्वर सिंह के नक्सलियों के कब्जे में होने की सूचना जबसे उनके परिवार को मिली सभी का रो-रोकर बुरा हाल है।

CRPF जवान राकेश्वर सिंह के नक्सलियों के कब्जे में होने की सूचना जबसे उनके परिवार को मिली सभी का रो-रोकर बुरा हाल है।

इससे पहले नक्सलियों ने जवान राकेश्वर सिंह की एक फोटो जारी की। इसमें CRPF की कोबरा बटालियन के जवान राकेश्वर नक्सलियों के कैंप में बैठे नजर आ रहे हैं। नक्सलियों ने कहा है कि राकेश्वर सुरक्षित हैं। राकेश्वर के जगरगुंडा इलाके में होने की खबरें आ रही हैं। यह भी कहा जा रहा है कि जिस जगह पर जवान को रखा गया है, वह जगह गांव, जंगल और पहाड़ियों के आसपास है।

तलाश के लिए ऑपरेशन की प्लानिंग कर रही CRPF
CRPF के DG कुलदीप सिंह ने कहा था, ‘हमारा एक जवान लापता है, ऐसी अफवाह है कि वह नक्सलियों के कब्जे में है, अभी हम इस खबर की पुष्टि कर रहे हैं और जवान के लिए ऑपरेशन भी प्लान कर रहे हैं।’

मध्यस्थों के नाम जारी करने की मांग कर रहे नक्सली
बता दें कि CRPF की कोबरा बटालियन में तैनात राकेश्वर मन्हास ने 2011 में फोर्स ज्वाइन की थी। 2014 में उनकी शादी हुई। उनकी 5 साल की एक बेटी भी है। वे परिवार में कमाने वाले इकलौते व्यक्ति हैं। बीजापुर जिले के जीरागुडेम गांव में नक्सलियों से मुठभेड़ में 3 अप्रैल को 22 जवान शहीद हुए। CRPF कोबरा दस्ते के कमांडो राकेश्वर सिंह मन्हार नक्सलियों के कब्जे में हैं। नक्सलियों ने सरकार से मध्यस्थों के नाम जारी करने की मांग की है।

मंगलवार को भी नक्सलियों ने एक प्रेस नोट जारी किया। नोट में 14 हथियार और 2000 से ज्यादा कारतूस साथ ले जाने का दावा किया गय। उन्होंने नक्सली ओड़ी सन्नी, कोवासी बदरू, पदाम लखमा, माड़वी सुक्खा और नूपा सुरेश के मरने की पुष्टि की। नोट में लिखा है कि नक्सली सन्नी का शव नहीं ले जा सके।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply