बिहार

कंटेनमेंट जोन से संक्रमित परिवार सहित फरार: 27 मार्च को पॉजिटिव पाई गई थी महिला, 30 को हुई होम क्वारंटीन; स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन की अनदेखी से रातोंरात भागी

wcnews.xyz
Spread the love

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भागलपुर20 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
घर के बाहर लगा ताला और माइक्रो केंटेनमेंट जोन का पोस्टर । - Dainik Bhaskar

घर के बाहर लगा ताला और माइक्रो केंटेनमेंट जोन का पोस्टर ।

  • बरारी के बर्निंग घाट रोड स्थित शीतला स्थान के पास क्वारंटीन की गई थी
  • पड़ोसी लगा रहे प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग पर अनदेखी का आरोप

भागलपुर में कंटेनमेंट जोन से एक संक्रमित महिला अपने पूरे परिवार के साथ रातोंरात फरार हो गई। पड़ोसियों को इस बात की तब जानकारी हुई जब सुबह में उन्होंने घर के बाहर ताला लटका देखा। 27 मार्च को महिला कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी, जिसके बाद 30 मार्च को उसे बरारी स्थित शीतला स्थान के पास अपने ही घर में होम क्वारंटीन कर दिया गया था। बुधवार देर रात महिला अपने पूरे परिवार के साथ फरार हो गई। पड़ोसियों का आरोप है कि जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की अनदेखी के कारण मरीज भाग गए। इतने दिनों में कोई भी टीम मरीज के फॉलो अप के लिए नहीं पहुंची। ना तो समय-समय पर जांच के लिए ही आई। कंटेनमेंट जोन में मरीजों के देखरेख और दवा की व्यवस्था की जाती है। समय-समय पर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम रेगुलर चेकअप के लिए भी पहुंचती है।
पूरे परिवार को होम क्वारंटीन किया गया
बरारी के शीतला स्थान निवासी एक 48 साल की महिला 27 मार्च को तबीयत बिगड़ी थी। 21 मार्च को वह अपनी बेटी को बिहार पुलिस की परीक्षा दिलाने के लिए कटिहार गई थी। वहां से आने के बाद उसके गले में दर्द शुरू हो गया था। खुद से दवा लेने के बाद भी जब उसकी तबीयत नहीं सुधरी तो 27 मार्च को सदर अस्पताल में चेकअप कराया, जहां उसे पॉजिटिव पाया गया था। अस्पताल ने 30 मार्च को उसे होम क्वारंटीन कर दिया था।
प्रशासन की खुल रही है पोल
कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर बिहार सरकार अलर्ट मोड पर है। जिला प्रशासन के साथ स्वास्थ्य विभाग की टीम को कोरोना संक्रमितों के उचित इलाज और चेकअप की जिम्मेदारी दी गई है। समय-समय पर होम क्वारंटीन मरीजों की जांच की भी व्यवस्था है, लेकिन भागलपुर का यह केस प्रशासन की पोल खोल रहा है। शीतला स्थान के लोगों ने बताया कि महिला को क्वारंटीन किए जाने के बाद कोई चेकअप या फिर दवा देने के लिए नहीं पहुंचा। मोहल्ले में कोरोना पॉजिटिव मरीज के होने से हड़कंप मच गया था। लेकिन, प्रशासन की टीम एक भी बार मरीज को देखने नहीं पहुंची।

सिलाई करती थी महिला
महिला सिलाई करती थी इसलिए उसके घर पर लोगों का आना-जाना लगा रहता था। अब स्थानीय लोगों को इस बात का डर है कि संक्रमित होने के बाद भी उसके घर में लोग आते-जाते थे। ऐसे में संक्रमण का चेन कहां तक फैला है, इस बात की किसी को खबर नहीं है। डर से कोई अपने तबीयत खराब होने की बात भी नहीं बता रहा है। संक्रमित महिला के पड़ोसियों ने बताया कि एक ही कमरे में महिला और उसके बच्चे रहते थे और क्वारंटीन कर दिए जाने के बाद भी उसके बच्चे घर से बाहर सामान लाने जाते थे। अब रातों रात घर से फरार होने पर यह भी डर है कि वे किस गाड़ी से गए और कितने लोगों को संक्रमण फैला है।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply