बिहार

उत्पाद विभाग का क्लर्क टल्ली होकर NH पर लुढ़का: किशनगंज में नशे में बेसुध क्लर्क को लोगों ने सहारा देने की कोशिश की तो गाली-गलौज करने लगा

wcnews.xyz
Spread the love

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किशनगंज39 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
बिहार बस स्टैंड के पास बेसुध पड़ा उत्पाद विभाग का क्लर्क। - Dainik Bhaskar

बिहार बस स्टैंड के पास बेसुध पड़ा उत्पाद विभाग का क्लर्क।

  • नशे में धुत क्लर्क ने लोगों से बदसलूकी की
  • उत्पाद अधीक्षक ने कहा- BP बढ़ा हुआ था

किशनगंज में बिहार बस स्टैंड के पास NH 27 पर शराब के नशे में धुत उत्पाद विभाग के एक क्लर्क का वीडियो वायरल हो रहा है। वह शराब के नशे में बेसुध होकर NH 27 के किनारे गिर गया। घटना बुधवार की दोपहर बाद करीब तीन बजे की है। भीड़भाड़ होने के कारण लोगों की नजर उस पर पड़ी। कुछ लोग वहां पहुंचकर बेसुध पड़े क्लर्क को सहारा देकर उठाने की कोशिश करने लगे। शराब के नशे में धुत कर्मी सहारा देने वालों की सराहना करने की बजाय, उन लोगों से अभद्र व्यवहार करने लगा। मुंह से आ रही शराब की तेज दुर्गंध से लोगों को पता चला कि वह नशे में धुत है।

घटनास्थल पर लगी काफी भीड़

घटनास्थल पर काफी भीड़ इकट्ठा हो गई। कई लोगों ने नशे में धुत क्लर्क की हरकतों का वीडियो बनाना शुरू कर दिया। अपना वीडियो बनाते देख क्लर्क लोगों से मोबाइल छीनने की कोशिश करने लगा और गाली गलौज करने लगा। इस बीच कुछ मीडियाकर्मी भी वहां पहुंच गए। मीडियाकर्मियों से भी क्लर्क उलझ गया। घटनास्थल पर क्लर्क का परिचय पत्र भी बरामद हुआ। इस बीच किसी ने इसकी सूचना उत्पाद अधीक्षक को दी। सूचना मिलते ही सादे लिबास में उत्पाद विभाग का एक कर्मी मौके पर पहुंचा। उसके बाद एक वर्दीधारी भी वहां पहुंचा और नशे में धुत क्लर्क को वहां से E-रिक्शा में बैठाकर भाग निकला।

नशे में धुत क्लर्क का परिचय पत्र NH किनारे मिला।

नशे में धुत क्लर्क का परिचय पत्र NH किनारे मिला।

पूर्व में भी कई बार विभाग की कार्यशैली रही है संदिग्ध
किशनगंज उत्पाद विभाग की कार्यशैली पूर्व से ही संदिग्ध रही है। इसके पूर्व अक्टूबर 2020 में शराब तस्करों को जल्द जमानत दिलाने के लिए डेढ़ लाख रुपए में उत्पाद विभाग के एक सिपाही का सौदा करने का ऑडियो वायरल हुआ था। इसकी जांच मद्य निषेध उपायुक्त संजय कुमार ने भी की थी। उनके निर्देश पर एक आरोपी सिपाही को सस्पेंड कर दिया गया था। इसके पूर्व उत्पाद विभाग के चालक के कमरे में शराब बरामद हुई थी। तब तत्कालीन SDPO ने दल बल के साथ उत्पाद विभाग के कार्यालय परिसर में बनी बैरक में छापेमारी की थी।

क्या कहते हैं उत्पाद अधीक्षक
उत्पाद अधीक्षक सत्तार अंसारी ने जांच नहीं कराए जाने के सवाल पर कहा कि आरोपी क्लर्क शराब के नशे में नहीं था। उसका BP बढ़ा हुआ था और वu छुट्टी लेकर अपने घर जाने के लिए बस स्टैंड गया था।

खबरें और भी हैं…

Source link

WC News
the authorWC News

Leave a Reply